स्कूल की दीवार गिरने से छात्रा की मौत:बिलासपुर में बाथरूम में थी कक्षा-2 की छात्रा; तीन बहनों में सबसे छोटी थी, पिता बोले-FIR हो

बिलासपुर में मंगलवार की सुबह स्कूल की दीवार गिरने से कक्षा- 2 की छात्रा की मौत हो गई। घटना बहतराई स्थित गीतांजली सिटी फेस-2 में निर्मल ज्ञानोदय पब्लिक स्कूल की है। अटल आवास निवासी वैशाली साहू (7 वर्ष) पिता टकेश्वर साहू दूसरी कक्षा में पढ़ती थी। रोज की तरह वह मंगलवार की सुबह स्कूल गई थी। सुबह करीब 11 बजे छात्रा वैशाली स्कूल में बाथरूम तरफ गई थी। तभी अचानक बाथरूम की दीवार गिर गई।

इस हादसे में वह उसके सिर में गंभीर चोंटें आईं। स्कूल के बच्चों ने इस हादसे की सूचना शिक्षकों को दी। तब आनन-फानन में उसे पास के निजी अस्पताल में ले जाया गया। जहां डॉक्टर ने उसे मृत घोषित कर दिया। हादसे की खबर मिलते ही पुलिस भी मौके पर पहुंच गई।

निर्मल ज्ञानोदय पब्लिक स्कूल में हुआ हादसा।

निर्मल ज्ञानोदय पब्लिक स्कूल में हुआ हादसा।

स्कूल में मचा हड़कंप
इस घटना के बाद स्कूल में हड़कंप मच गया। इधर, हादसे के बाद गुस्साए पिता ने स्कूल प्रबंधन पर लापरवाही बरतने का आरोप लगाते हुए नाराजगी जाहिर की है। उन्होंने संचालक के खिलाफ अपराध दर्ज करने के साथ ही मुआवजा राशि देने की मांग की है। घटना सरकंडा थाना क्षेत्र की है।

दीवार गिरने से छात्रा की मौत के बाद घटनास्थल की जांच करने पहुंची पुलिस

दीवार गिरने से छात्रा की मौत के बाद घटनास्थल की जांच करने पहुंची पुलिस

दीवार जर्जर थी
छात्रा वैशाली के पिता टकेश्वर साहू टेंट हाउस का काम करते है। उन्होंने बताया कि स्कूल के बाथरूम की दीवार जर्जर हो गई थी। इससे पहले भी स्कूल प्रबंधन को बाथरूम की दीवार को ठीक कराने कहा गया था। लेकिन, प्रबंधन ने कोई ध्यान नहीं दिया। उन्होंने इस हादसे के लिए स्कूल संचालक को दोषी ठहराया है और उसके खिलाफ अपराध दर्ज करने की मांग की है। साथ ही बेटी की मौत के लिए 5 लाख रुपए मुआवजा राशि दिलाने की मांग की है।

तीन बेटियों में छोटी थी वैशाली
टकेश्वर साहू की तीन बेटियां हैं, जिनमें वैशाली सबसे छोटी थी। उनकी बड़ी बेटी दुर्गेश्वरी आठवीं कक्षा में पढ़ती है और दूसरी बेटी खिलेश्वरी पांचवीं कक्षा में पढ़ रही है। इस हादसे के समय उनकी दो बेटियां भी स्कूल में थी।

छात्रा की मौत के बाद परिजन पहुंचे CIMS

छात्रा की मौत के बाद परिजन पहुंचे CIMS

संचालक को पकड़कर पूछताछ कर रही पुलिस
छात्रा के पिता के आरोप लगाने के बाद पुलिस ने स्कूल संचालक को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है। स्कूल स्टॉफ भी सरकंडा थाने में हैं। पिता का कहना है कि अभी हाल में ही उसने पांच हजार रुपए फीस देने की बात कही है। स्कूल संचालक ध्यान देता तो दीवार बनाने में पांच हजार रुपए भी खर्च नहीं होता और उसकी बेटी की जान नहीं जाती।

UMESH NIRMALKAR

Leave a Reply

Next Post

सकारात्मक आदतें:अच्छी आदतें अच्छे मन से डालें तो डल जाएंगी, जानें ख़ुद को हर दिन प्रेरित कैसे रखें और सकारात्मक आदत कैसे डालें

Wed Jan 5 , 2022
दिनचर्या में जितने अधिक काम आदतों के रूप में होंगे, ज़िंदगी उतनी ही सुचारु, व्यवस्थित और सेहत भरी होगी। इस सच को हम सब जानते हैं, इसलिए अच्छी आदतें बनाने की कोशिश भी करते हैं। दिक़्क़त यह होती है कि अच्छी आदत जल्दी पड़ती नहीं है। रोज़-रोज़ वही काम करके […]

You May Like

Breaking News